“IOC” ने ऑटोमोटिव प्रदर्शन के परीक्षण के लिए ‘reference’ पेट्रोल और डीजल का उत्पादन शुरू किया है।

Indian Oil Corporation (IOC) ने विशेष ‘referencePetrol और Diesel का उत्पादन शुरू किया है, जिसका उपयोग मुख्य रूप से ऑटोमोबाइल की जांच के लिए किया जाएगा है, अपने बेहतर विशिष्टताओं से प्रतिष्ठित ये ईंधन, ऑटोमोबाइल निर्माताओं और इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (आईसीएटी) और ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया जैसे परीक्षण संगठनों द्वारा संचालित परीक्षण प्रक्रियाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

कई वर्षों से, भारत इन विशेष ईंधनों की मांग को पूरा करने के लिए आयात पर निर्भर रहा है। हालाँकि, अब, IOC के पास खुद का उत्पाद हैं,  जिससे वाहन निर्माताओं और परीक्षण एजेंसियों के लिए काफी कम लागत पर भरोसेमंद आपूर्ति सुनिश्चित होगी।

IOCL और HPCL जैसे खुदरा विक्रेता अपने सर्विस स्टेशनों पर मुख्य दो प्रकार के Petrol और Diesel पेश करते हैं: Standerd और Premium । इन ईंधन के बीच मुख्य अंतर ऑक्टेन संख्या का है। नियमित ईंधन की ऑक्टेन रेटिंग 87 होती है, जबकि प्रीमियम ईंधन की ऑक्टेन रेटिंग 91 या उससे भी अधिक होती है। ऑक्टेन नंबर से पेट्रोल और डीजल की ज्वलन गुणवत्ता नापी जाती है।

Indian Oil Corporation (IOC) Reference Oil

IOCL Refinery. reference
IOCL Refinery

जब कारों के परीक्षण की बात आती है, तो ईंधन नियमित या प्रीमियम से भी बेहतर होना चाहिए। इसे सरकार द्वारा निर्धारित विशिष्ट मानकों को पूरा करना पड़ता है, जिसमें ऑक्टेन संख्या, फ्लैश प्वाइंट, चिपचिपाहट, सल्फर और पानी की मात्रा, हाइड्रोजन शुद्धता और एसिड संख्या जैसी चीजें शामिल हैं। परीक्षण के लिए उपयोग किए जाने वाले इन विशेष ईंधनों को ‘संदर्भ’ पेट्रोल और डीजल कहा जाता है, और वे यह जांचने के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं कि कारें कितना प्रदूषण पैदा करती हैं।

READ MORE  Cessna Business Park: जहां सपने हकीकत में बदलते है, जाने यहां की इतिहास और 5 खास बातें

इन “reference” ईंधनों का भारत में अधिक उत्पादन नहीं किया गया क्योंकि इनकी मांग बहुत अधिक नहीं थी। अत: भारत इनका आयात करता था। लेकिन अब, इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन इन्हें यहीं हमारे देश में बना रहा है। यह भारत को आत्मनिर्भर बनाने के सरकार के लक्ष्य के अनुरूप है, जो यह कहने का एक शानदार तरीका है कि हम वह उत्पादन कर सकते हैं जिसकी हमें आवश्यकता है।

IOC पहली बार किसी कार्यक्रम में इन विशेष ईंधनों का अनावरण करने की योजना बना रहा है, और तेल मंत्री, हरदीप सिंह पुरी संभवतः इस विकास के बारे में बात करने के लिए वहां मौजूद रहेंगे। IOC के अलावा, दो अन्य बड़ी कंपनियाँ हैं जो भारत में ईंधन बेचती हैं – भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL)। ये तीन सरकारी स्वामित्व वाली कंपनियां मिलकर हमारे देश के लगभग 90 प्रतिशत ईंधन बाजार पर नियंत्रण रखती हैं।

सरल शब्दों में इसका मतलब यह है कि अब हम कारों के परीक्षण के लिए अपना विशेष ईंधन बना सकते हैं, जो हमारे कार उद्योग और हमारे देश के लिए उत्कृष्ट है। इसका मतलब यह भी है कि हम पैसे बचा सकते हैं और इन ईंधनों के लिए दूसरे देशों पर कम निर्भर रह सकते हैं। यह भारत को अधिक आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में एक कदम है।

I am a Content Writer at 4NewsTV.com: Bringing Stories to Life. As a content writer at 4NewsTV.com, my job is to take news and make it interesting and easy to understand. I research, write, and share stories that keep our readers informed and entertained.

Leave a comment